Home पुराण की कथा अमृत की आस देखते ही रह गए नाग, उलटे जीभ हो गई दो भाग

अमृत की आस देखते ही रह गए नाग, उलटे जीभ हो गई दो भाग

error: Content is protected !!