Home उपयोगी कथा सठ सुधरहिं सतसंगति पाई, पारस परस कुधात सुहाई- सत्संगति में दुष्ट भी सुधर जाते हैं, पारस के स्पर्श से लोहा सोना बन जाता है

सठ सुधरहिं सतसंगति पाई, पारस परस कुधात सुहाई- सत्संगति में दुष्ट भी सुधर जाते हैं, पारस के स्पर्श से लोहा सोना बन जाता है

error: Content is protected !!